सीपीयू क्या है ? ( what is CPU ? ) Technical RJ Official

1
35
CPU Kya hai
CPU Kya Hai

दोस्तों आज हम सीखेंगे की what is CPU ? ( सीपीयू क्या है ? ) और यह कैसे काम करता है . दोस्तों कंप्यूटर के बारे में जब भो हम बात करेंगे तो उसमें CPU का नाम तो आएगा ही . दोस्तों यदि आपका carrer कंप्यूटर लाइन की तरफ है तो आपको CPU शब्द आपको सुनाई दिया ही होगा . दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे की CPU क्या होता है . CPU कंप्यूटर का brain ( मस्तिष्क ) होता है . यह एक प्रकार की processing device है जो की आपके द्वारा कंप्यूटर में input की गई जानकारी को आगे process करके उसका परिणाम आपको देती है . दोस्तों cpu एक आदमीं की तरह ही काम करता है . जैसे जैसे आप कंप्यूटर में use आर्डर देते हो वह उसी तरह ही आपको Result Show कराता है . जिस प्रकार हम किसी भी gadgets cpu के बिना एक भी चीज run नहीं कर सकते है . दोस्तों कंप्यूटर जो भी कार्य करता है उसमें cpu का बहुत बड़ा योगदान होता है . दोस्तों इसलिए ही इसे कंप्यूटर का सबसे main important parts माना जाता है आजकल CPU को भी अलग अलग नाम से लोग जानते है . CPU को Processor या micro processor जैसे नामों से अधिक जाना जाता है .

दोस्तों यह processor कई प्रकार के होते है . अगर आप किसी से इनके नाम Dual – Core या quad core तो यह cpu के विभिन्न नाम होते है . दोस्तों processor कंप्यूटर की अच्छी performance के लिए भी होते है . जितना अच्छा processor होगा उतना ही आपका कंप्यूटर soft चलेगा . अगर आप एक fast कंप्यूटर बनाना चाहते हो तो उसमें आपको एक best सीपीयू की जरुरत होगी . दोस्तों में उसी के बारे में आज आपको doubt को क्लियर कर दूंगा .

दोस्तों इस लेख में हम आपको बताएँगे की CPU किसे कहते है . यह कंप्यूटर में कोन सी जगह पर स्थित होता है . और cpu का क्या क्या काम होता है . cpu से related जानकारी और भी देंगे चलिए दोस्तों बिना टाइम waste किये start करते है

what is CPU ? ( सीपीयू क्या है ? )

दोस्तों CPU कंप्यूटर का brain होता है जिसे की processor भी कहा जाता है . यह कंप्यूटर का primary components है और अक्सर इसे कंप्यूटर का दिमाग भी कहते है . दोस्तों इसका सिर्फ एक कार्य होता है . कंप्यूटर को दिये गए instructions को process करना है . दोस्तों कंप्यूटर पर आप जो भी काम करें उसमें कहीं न कहीं cpu भी भागीदार होता है .

CPU Kya hai

यदि कंप्यूटर की langauge में आपको बताऊँ तो CPU कंप्यूटर का वह हार्डवेयर parts है जो की सभी arithmetical logical और INPUT /OUTPUT operation को control करता है .

प्रत्येक कार्य जो हम अपने कंप्यूटर में करते है use CPU द्वारा process किया जाता है . दोस्तों एक example से समझते है . मान लो की आपको calculator से एक जोड़ करना है . सबसे पहले आप अपने कंप्यूटर में window पर जाकर उस calculator को ओपन करोगे . अब वह अंक डालोगे जिसे आपको जोड़ना है . अब जो अंक आपने डाला है use keybourd controller use बाइनरी कोड में चंगे कर देगा . आप सोच रहे होंगे की यह बाइनरी कोड क्या है कंप्यूटर बाइनरी कोड पर ही काम करता है .

जब यह डाटा CPU तक पहुंचता है तो इसमें मौजूद ALU ( arithmetic Logical Unit ) जो सभी mathematical और logical operation के लिए जिम्मेदार है इस संख्या को जोड़कर रिजल्ट आपकी स्क्रीन पर दिखाई कर देता है . दोस्तों जब इतना लोड cpu पर पड़ता है तो वह गर्म हो जाता है और इसलिए ही cpu के ऊपर की तरफ coolling fan लगा हुआ होता है जिससे की वह गर्म होने पर ठंडा किया जा सकें .

सीपीयू कंप्यूटर में कहाँ पर होता है ?

दोस्तों हर कंप्यूटर में CPU आपको motherbourd में मौजूद CPU सॉकेट में लगा हुआ दिखाई देगा . दोस्तों देखने में यह Sqare Shape की चिप होती है . जो हजारो transistors की help से मिलकर बनी होती है . इन transistors की पतली परत से मिलकर बनी हुई होती है . इन्ही transistors की मदद से ही processor peripheral device जैसे keybourd mouse etc . कंप्यूटर प्रोग्राम से input recieve करता है और उसकी processing करने के बाद output device को रिजल्ट send करता है .

पहला सीपीयू कब और इसे किसने बनाया ?

दोस्तों दुनिया का पहला CPU 1970 के दशक में Intel द्वारा निर्माण किया गया था . तब से लेकर आज तक इसमें disign और implementation में कई बदलाव हो चुके है . परन्तु इसके fundamental operation ( काम करने के तरीकें ) में ज्यादा बदलाव नहीं हुए है .

Computing power के सन्दर्भ में CPU एक कंप्यूटर सिस्टम का सबसे important एलिमेंट है . processor को महत्वपूर्ण बनाने में इसके components का बहुत बड़ा योगदान है ….

CPU के components और उनके कार्य

दोस्तों cpu के components में मैंने उन्ही में बारे में बताया है जो की मुख्य रूप से प्रमुख है जो cpu के विभिन्न कार्यो को करते है सीपीयू के virios components इस प्रकार है .

  • arithmetic Logic unit ( ALU )
  • control unit ( CU )
  • Registers या Memory Unit
  • System Buses

arithmetic Logic unit ( ALU )

दोस्तों cpu के अन्दर arithmetic और logical operation को करने के लिए ALU जिम्मेदार है . CPU द्वारा किये जाने वाले सभी calculations जैसे division , addtition , Subtraction और Multiplication इन् सभी प्रतिक्रियाओ की processing करने का काम arithmetic logic unit का होता है . इसे cpu का important भाग माना जाता है .

ALU को core of the CPU भी कहा जाता है . एक कंप्यूटर कितनी fast किसी क्रिया को पूरा करेगा . यह CPU core पर ही निर्भर होता है . अक्सर आपके कंप्यूटर को खरीदते वक़्त सुना होगा की एक processor यानि की CPU सिंगल core या dual core का है . तो दोस्तों यहाँ पर core का मतलब ALU से है .

control unit

दोस्तों CU , भी cpu का एक महत्वपूर्ण घटक होता है . ये कंप्यूटर में घटित होने वाले सभी operations को control और direct करने का काम करता है . आसान भाषा में आपके द्वारा input किये गए instructions या डाटा को कंप्यूटर सिस्टम ककी दूसरी unit तक transfer करने का काम control unit करता है .


इस काम को करने से पहले यह मेमोरी रजिस्टर से instructions को recieve करता है फिर उनकी व्याख्या यानि की उन्हें interprets करने के बाद निर्देशों के अनुसार डिफरेंट unit तक send कर देता है है ये सिस्टम क्लॉक की दिशा में कार्य करता है जिसकी वजह से यह सुनिश्चित हो पता है . की डाटा उसके सही स्थान पर पहुँच सकें ..

Registers या मेमोरी unit

मेमोरी unit cpu की temporary स्टोरेज है जहाँ processing के लिए आये डाटा या निर्देशों को स्टोर किया जाता है . ये infrormation को बिट्स इ फॉर्म में रखता है CPU में यह रेफिस्टर अलग अलग कैपिसिटी के होते है जैसे 2 – bit register , 4- bit register या 8 – bit register etc.. इसी मेमोरी unit में रखे डाटा को control unit processing के लिए ALU तक ले जाता है . ये मेमोरी एक कंप्यूटर मेमोरी नहीं होती है . बल्कि इसे cpu की लोकल स्टोरेज कहा जाता है . जो process किये जा रहे डाटा को होल्ड करके रखती है .

इन registers के कई और वर्ग होते है , जिन्हें मैंने नीचे दर्शाया गया है .

मेमोरी address register (MAR ) :- जब कंप्यूटर मेमोरी से डाटा processing के लिए CPU के पास आता है तो उसका एक address होता है उस address को स्टोर करने के लिए MAR का उपयोग किया जाता है .

मेमोरी डाटा register ( MDR ) : – यह मेमोरी से recieve डाटा या instructions को होल्ड किये हुए रखता है .
Program Counter (PC ) :- यह register आने वाले future वाले next instruction को होल्ड किये रखता है .

Current instruction register ( CIR ) :- processor द्वारा decode और execute किये जा रहे current instruction को होल्ड करता है .

Accumulator register ( AR ) :- जब कोई प्रोग्राम यह निर्देष CPU द्वारा निष्पादित कर दिया जाता है और उस process का जब रिजल्ट निकलता है तो उसे ये AR ही होल्ड रखता है .

System Buses


processor और memory के बीच में डाटा को ले जाने के लिए इन system buses का उपयोग होता है . यह cable और connectors से बना एक pathway है जिससे कंप्यूटर सिस्टम के विभिन्न घटकों के बीच डाटा और control signals का आदान प्रदान हो सकें इसके लिए यह buses एक communication path के रूप में कार्य कराती है .
दोस्तों कंप्यूटर सिस्टम में मुख्य रूप से तीन प्रकार की सिस्टम बस होती है

  • address bus : निर्देष या data के पते ले जाती है .
  • data Bus : मेमोरी और processor के बीच डाटा को ले जाती है .
  • control bus : नियंत्रण संकेतो को ले जाने का काम कराती है .

parts of CPU (सी पी यू के प्रकार )

दोस्तों जब भी आप कोई कंप्यूटर build करने की सोचते हो तो उसमें main पार्ट CPU का आता है . क्योंकि आप जानते हो की एक cpu किसी भी कंप्यूटर के सभी important components को हैंडल करता है . एक कंप्यूटर सिस्टम की सारी performance उसके cpu का ही निर्भर होती है . दोस्तों cpu के अलग अलग प्रकार पढ़कर आप समझ जायेंगे की कोन सा cpu बेहतर है . चलिए आगे चलते है .

Single core CPUs

दोस्तों इस तरह के CPUs एक समय में केवल एक ही काम कर सकते है . जैसे की आपको chrome browser में कोई website search करनी है तो आप सिर्फ वही काम कर सकते है . यदि आप सोचें की मुझे अभी साथ साथ में गाने भी run करने है तो एसा बिल्कुल भी नहीं हो सकता . core किसी processor की capicity को निर्धारित करते है यह सबसे पुराने प्रकार के cpu चिप्स है जिन्हें पहले के computers में उपयोग किया जाता था . जिन कंप्यूटिंग device में सिंगल core cpu लगे होते है उनकी performance बहुत अच्छी नहीं होती है खास कर Multitasking में …

dual core CPUs

दोस्तों इसके नाम से ही आपको पता चल गया होगा कि इसमें 2 core है. यानी हम कह सकते है कि इस प्रकार के CPUs में दो processor की क्षमता होती है अब क्योंकि dual core CPUs में दो CPU की क्षमता होती है , तो दोस्तों यह single core के comparison में उससे बेहतर powerfull है . दोस्तों इसकी speed भी single core वाले cpu से बहुत अधिक है .

दोस्तों प्रक्रियाओ को करने के लिए यह CPUs जिस technology का उपयोग करते है उसेस dual – core technology कहते है एक बात ध्यान रखने वाली है की CPU एक समय में सिर्फ एक ही काम का निष्पादन कर सकता है but इस technology के जरिये से एक single silicone chip में two processor cores को combine कर दिया जाता है

Quad Core CPUs

दोस्तों इसका मतलब है की four cores वाले processor …. यानी कि प्रत्येक cores स्वतंत्रता के साथ किसी प्रोग्राम को process और execute कर सकता है यानी कि आप कह सकते है की एक कंप्यूटर सिस्टम का workload four CPU के पास splitयानी विभाजित हो जाता है आजकल के multi – tasking माहौल में इस types के CPU अधिक देखने को मिलते है .

कंप्यूटर पर run करने वाले प्रोग्राम व operating सिस्टम , quad – core CPU की क्षमताओं का उपयोग कर पाएं इसके लिए उनमें एक खास प्रकार का code होता है . जिसे ki SMT Code ( Simultaneos multi – threading technology ) के नाम से जाना जाता है . इस प्रकार के CPUs , multiprocessor architecture पर काम करते है ऊपर बताये गए सभी CPU की क्षमताओं में यह सबसे अधिक पावरफुल है .

CPU Models दोस्तों कंप्यूटर का मस्तिष्क कहे जाने वाले CPU आजकल कई अलग अलग models में उपलब्ध है यह models खास कर Intel और AMD जैसी company द्वारा बनाये गए है .

core class ( i3 . i 5 and i 9 )


दोस्तों intel company ने 2008 में core ” 8 ” सीरीज की सुरुआत की थी . इसी मॉडल ने पहले उपयोग होने वाले core duo और solo CPUs की जगह ली थी . यह सभी processor models अलग अलग proformance वाले system के लिए बनाये गए है . यदि आप intel के इन models को उपयोग में लेना चाहते ही तो दोस्तों आपको इनके बिच में अंतर को समझाना होगा .

core i3

Intel के इस processor मॉडल को casual user और budget gamer के लिए design किया गया है i3 processor आमतौर पर 4 core व 4 thread पर आधारित होता है .

core i 5

यह cpu , 6 core और 6 thread पर आधारित है जिसे एक हैवी user की जरूरतों के लिए disign किया गया है .

core i 7

इस cpu मॉडल में core i5 की तरह ही 6 cores होते है but नंबर of threds 12 होते है जिसकी वजह से यह हैवी cpu users या multitasking में काफी मदद करता है . अगर आप उच्च सस्तर का कंप्यूटर सिस्टम बनाना चाहते है तो core i7 एक बहुत ही बेहतर विकल्प हो सकता है .

core i9

यह अभी सबसे latest core processor है जिसमें 10 cores और 20 threads मौजूद है हाल ही में luanch हुए core i 9 अब तक का सबसे best cpu है .

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here